Tuesday, December 2, 2008

आतंक का साया...

यह कैसा समय है आया
हर तरफ़ आतंक का साया
आखिर कब तक रहेगा आतंक
इंसानियत पर होगा कलंक
कभी तो मिलेगी निजात
उजली होगी ये काली रात
कोई तो होगा ऐसा सिपाही
जो रोकेगा यह तबाही
वक्त के लिलार पर लिखेगा
पत्थरों पर भी गढेगा
अब सुरक्षित है मेरा देश
अब नही कोई क्लेश
अब हम पूरी तरह आजाद हैं
अब सभी गुलशन आबाद हैं।
- नीरज शुक्ला "नीर"

6 comments:

  1. आप को ब्लॉग पर देखकर ख़ुशी हुई इसी प्रकार अपनी बात जारी रखें

    ReplyDelete
  2. your poem's words are so good and also your feeling. so, I'm going to publish AATANKA KA SANYA on Dainkik Prasaran.

    Kindly send me your postal address to my mail, So, Copy me be sent to you.
    mail: pan_vya@yahoo.co.in
    Thanks

    Pankaj vyas
    neeraj sukla ji,

    ReplyDelete
  3. Neeraj..sabse pahle to apki is post ke liye apko dhanyabaad. Aapki chinta aur asha dono hi vaazib hai.

    Aapke blog par aaker bahut achha lagaa.

    ReplyDelete
  4. Uper mere comment men ..Neeraj ji....padha jaaye. pahle comment men galti se 'Ji' chhoot gaya hai. Iske liye Neeraj Ji main sharminda hun. Asha hai AAp meri is galti ko maaf karenge.

    Dhanaybaad.

    ReplyDelete